Moong dal halwa रेसिपी हर स्टेप इमेज के साथ टेस्ट हलवाई जैसा

Moong dal halwa

Moong dal halwa आज हमने इसी की रेसिपी को बिलकुल बारीकी से सीखेंगे मैंने यहां पर हलवा बनाने के हर एक स्टेप को इमेज के साथ बताया है तो दोस्तों जैसा की आप लोग जानते ही हो जो मैं जो रेसिपी आप लोगो के साथ सेयर करता हूँ वो घर पर हे सब आसानी से बना सकते है मैंने कई रेसिपी आप लोंगो के साथ शेएर की है और आगे भी सेयर करता रहूंगा बस आपलोग मुझे स्पोर्ट करते रहिये

यदि आपको मीठा खाने का शौक है और आपको भारतीय व्यंजनों के विविध स्वादों से लगाव है, तो आपने Moong dal halwa का हलवा जरूर खाया होगा। भारतीय उपमहाद्वीप में लोकप्रिय यह स्वादिष्ट Moong dal halwa स्वाद और पोषण का सामंजस्यपूर्ण मिश्रण पेश करती है। इस पुरे  आर्टिकल  में, Moong dal halwa की रेसिपी बहुत ही बारीकी से सीखेंगे , इसकी तैयारी, पोषण संबंधी लाभ  के बारे में भी हम बिस्तर से जाने गें और बहुत कुछ के हलवा बारे में जानेंगे। तो, आराम से बैठें और ज्ञान की मिठास का स्वाद लें!

मूंग दाल हलवा के बारे में

Moong dal halwa, जिसे मूंग बीन पुडिंग के नाम से भी जाना जाता है, एक समृद्ध इतिहास और उससे भी अधिक समृद्ध स्वाद वाली एक पारंपरिक भारतीय मिठाई है। यह उत्तर भारत से आता है और उत्सव कार्यक्रमों, त्योहारों और पारिवारिक समारोहों में एक प्रमुख स्थान है। यह स्वादिष्ट मिठाई विभाजित पीली मूंग, घी (स्पष्ट मक्खन), चीनी और सुगंधित इलायची के छिड़काव का उपयोग करके तैयार की जाती है। सामग्रियां सरल लग सकती हैं, लेकिन जब संयुक्त होती हैं, तो वे स्वादों की एक सिम्फनी बनाती हैं जो आपकी स्वाद  को पूरा कर देती हैं।

Moong dal halwa बनाने की कला की हाईलाइट ( वोरवीउ )

सामग्री Moong dal हलवा के लिए 

विभाजित पीली मूंग की दाल

घी (स्पष्ट मक्खन): घी एक समृद्ध, मक्खन जैसा स्वाद जोड़ता है और सही बनावट प्राप्त करने में मदद करता है।

चीनी: मीठे  के लिए स्वादानुसार चीनी मिलायी जाती है।

इलायची: यह मसाला मिठाई को एक सुखद सुगंध और स्वाद देता है।

केसर: अक्सर रंग बढ़ाने और सूक्ष्म स्वाद प्रदान करने के लिए उपयोग किया जाता है।

मेवे: कुरकुरा बनावट के लिए कटे हुए बादाम और काजू मिलाए जा सकते हैं।

तैयारी Moong dal halwa की 

मूंग दाल का हलवा तैयार करना बहुत मेहनत का काम है, क्योंकि इसमें इसके स्वादिष्ट स्वाद को सुनिश्चित करने के लिए सावधानीपूर्वक कदम उठाने पड़ते हैं:

खाना बनाना: एक पैन में घी गरम करें और उसमें पिसी हुई मूंग डालें। गुठलियां बनने से रोकने के लिए लगातार हिलाते रहें और तब तक पकाएं जब तक कि मिश्रण सुनहरा भूरा न हो जाए और अच्छी सुगंध न आने लगे।

चीनी मिलाना: इसके बाद, चीनी डालें और पकाते रहें, इसे पिघलने दें और मिश्रण में मिल जाएं।

स्वादिष्ट स्पर्श: इलायची पाउडर और केसर के धागे छिड़कें, जो हलवे को एक मनमोहक सुगंध और रंग से भर देते हैं।

सजावट: अतिरिक्त कुरकुरापन और दृश्य अपील के लिए मिठाई को कटे हुए मेवों से सजाकर समाप्त करें

 

अब मुझे पता है आप सभी में से बहुत सारे लोगों का यह फेवरेट हवा होगा मुझे भी बहुत पसंद है खाने में और आज जो रेसिपी में आपके साथ शेयर करूँगा बहुत सिंपल है आपको दाल को शौक नहीं करना पड़ेगा आपको कोई की मावे की जरूरत नहीं है दूध की जरूरत नहीं है जो चीजें मैंने बताई उनका प्रयोग करके बनेगा और कितना जबरदस्त मूंग दाल का हलवा बनता है एकदम बेसिक तकनीक है परफेक्ट टेक्सचर आता है परफेक्ट बिल्कुल भी दांत में लगता नहीं है एकदम जबरदस्त बनता है इन शॉर्ट यह वाली रेसिपी कैसे बनाते

स्टेप -1 दाल तैयार करना Moong dal halwa के लिए

1.यहां  पार एक कप मूंग की दाल लेनी है

2.इसे अक्षे से धो लेना एक बार आपने दाल  को धो लिया है तो इसको एक प्लेट के ऊपर फैला लीजिये प्लेट पर फैलाने के बाद एक टिशू पेपर या कपड़ा ऊपर से करके दाल को ड्राई कर लीजिए

3.सूखने के बाद एक पैन ले लीजिए नॉन स्टिक पैन के अंदर इस दाल को ट्रांसफर कर दीजिए अब दाल को आपको बस धीमी आंच के ऊपर हल्का सा रोस्ट करना है ताकि आपकी जो दाल है वह एकदम से सुख जाए और इसको तब तक रोस्ट करना है  चलना जब तक हल्का हल्का इस दाल का जो रंग है वो थोड़ा गहरा होना शुरू हो जाए तो आप देख सकते हैं मैंने चार-पांच मिनट अच्छे से धीमी आंच पर दाल  को भून लिया है दाल का कलर भी जो है वह हल्का-हल्का चेंज होने लग गया और एकदम सूख गई

4.अब इस दाल को एक बर्तन के अंदर ट्रांसफर कर दीजिए और अच्छे से ठंडा कर लीजिए ट्रांसफर कर दीजिए अभी इस दल को आपको पीस लेना है दाल को आपको एकदम फाइन पाउडर में नहीं पीना है इस बात का ध्यान दीजिए  हल्का सा दरदरा रखना है दाल को आप देख सकते हो मैंने दाल को पीस लिया है दाल को एक दम दरदरा भी नहीं करना है और एकदम महीन पाउडर भी नहीं होना चाहिए इसे बीच में होना चाहिए

स्टेप -2 चासनी तैयार करना Moong dal halwa के लिए

1.अब आपको आगे क्या काम करना है आपको एक चाशनी बनानी है चाशनी कैसे बनाते हैं वह देखते हैं एक बर्तन के अंदर 1  शक्कर ले लो  1 लीटर पानी चुटकी भर इलायची का पाउडर डाल सकते हैं और इसमें 15-20 धागे केशर के डालिये ये ऑप्सनल है रंग बहुत ही अक्षा आता है और फ्लेवर ही बहुत ही अक्षा आता है     ab  इसे अक्षे रोस्ट ( चलकर ) करके  इसे एक बॉईल पर ले आना है आपको ध्यान रखना है की चाशनी कोई एक दो तार वाली नहीं बनानी बस एक बार आपकी शक्कर घुल  जाए एक उबाल आ जाए उसके बाद गैस को बंद कर देना है तो शक्कर घुल  चुकी है एक उबाल आ भी चुका है गैस को बंद करके  इस चासनी को साइड में रख देना है

स्टेप -3 ड्राई फ़ूड तैयार करना Moong dal halwa के लिए

1.अब हलवा बनाने के लिए एक बड़ी सी कड़ाई ले लीजिए बड़ी कढ़ाई होना थोड़ा जरूरी है अब इसके अंदर 1 कप घी ऐड करो जितनी दाल लिया था उतना उतना ही लेना है घी डालने के बाद एक बार घी गर्म हो जाए तब इसके अंदर आपको ड्राई फुड को फ्राई  करना है 1/4 फ्लेवर किये हुए बदाम  और 1/4 कप चोप किया हुआ काजू ले लिया है यहां पर मैंने जो बादाम और 14 कप चाप किया हुआ काजू ले लिया है इसे मैं एक छन्नी में डालकर फ्राई कर लूंगा जिससे  निकलना आसान हो जाता है अब डायरेक्टली भी डाल सकते हैं लो  फ्लेम पर जब तक थोड़े से गोल्डन ब्राउन होना शुरू हो जाए नट्स तब तक आप फ्राई  कर लीजिए नट्स भी आप अपने चॉइस के ले सकते हैं तो आप देख सकते हो मैं फ्राई कर लिया है इन्हे निकाल कर एक बॉल में ट्रांसफर कर दीजिए

2.अब उसी ड्राई फ़ूड वाले घी को लेना है घी एकदम बहुत ज्यादा भी गरम नहीं होना चाहिए मीडियम गर्म होना चाहिए इसके अंदर 3 टेबल स्पून रवा और 3 टेबलस्पून बेसन ऐड करना है दोनों चीज ऐड करते ही अच्छे से चलकर रोस्ट कीजिए और एकदम लो  फ्लेम में आपको इसको भूनना है जब तक की इसमें से खुशबू आना शुरू हो जाए और आपका जो रवा और बेसन है वह कलर चेंज नहीं करते हल्का सा बिस्किट कलर का हो जाना चाहिए यह बहुत इंपॉर्टेंट है आपको ध्यान देना कि टेंपरेचर कंट्रोल करना बहुत जरूरी है अगर फ्लेम ज्यादा हाई हो रही है या कढ़ाई गर्म हो रही है तो आप फ्लेम को बंद भी कर सकते हैं जो रवा और बेसन इस्तेमाल किया है उससे टेक्सचर बहुत अच्छा आ जाता है मूंग दाल के हलवे में तो यह बात का ध्यान दीजिए यह टिप को नोट करके रखिए हमेशा ऐड कीजिए एक बार आपका राव और बेसन का कलर चेंज हो जाए

स्टेप -4 Moong dal halwa  तैयार करना

1.तब इसके अंदर हमें पीसी हुई दाल डालनी है तो डाल ऐड कर दीजिए दाल ऐड करने के बाद इसे चलाते रहिये चलाकर रोस्ट कर दीजिए और अब दाल को भी एकदम लो  फ्लेम पर आपको आराम से 6-7 मिनट या  8 मिनट के लिए घूमने जब तक दाल का भी जो रंग है वह डार्क बिस्किट कलर का ना हो जाये

2.लगातार पलटा चलाते  रहिए और दाल को अच्छे से 8 मिनट हो चुके हैं आप देख सकते हो दाल का जो रंग है कुछ इस तरीके का हो जाना चाहिए डार्क बिस्किट कलर का एक बार दाल आपकी इस तरीके से भून जाए उसके बाद क्या करना फ्लेम को बंद कर दीजिए

3.फ्लेम को बंद करने के बाद बहुत केयर फुलआपको धीरे-धीरे करके इसमें चाशनी ऐड करनी है थोड़ा सा ध्यान दीजिए यहां पर आप देखेंगे जैसे ही आप चाशनी डालते हैं एकदम ये एक दम से ऊपर आ जाता है कभी-कभी क्या होता है कि बाहर आ जाता है एकदम इसलिए यहां बड़ी कढ़ाई लीजिए और दो तीन पार्ट्स में चाशनी को ऐड कर दीजिए चासनी आपने ऐड कर दी तब पलटे को चलाते हुए आपको लगभग1/2 घंटे के लिए हलवे को भुनना है आधा घंटा जरूर लगेगा लेकिन यह जो प्रक्रिया है इसमें क्या होगा आपकी जो दाल  है बहुत अच्छे से पक जाएगी दाल अच्छे से फूल जाएगी और आपका जब भी हलवा बनेगा तो एकदम सॉफ्ट बनेगा

4.अब आप देखेंगे 1/2 घंटे बाद आपला जो हलवा वह एकदम से घी छोड़ देगा एकदम रिड्यूस हो जाएगा और आपका हलवा एकदम बढ़िया बन जाए तो इसी तरीके से आधे घंटे से 35 मिनट तक हलवे को पका लीजिए जब तक की तेल नहीं छूट जाता है आप देख सकते हो लगभग आधा घंटा हो चुके हैं हलवा ने जो है पूरा अपना घी छोड़ चुका है इस इस स्टेज  पर आपको क्या करना है गैस को हाय फ्लेम पर कर देना है आपके यहां पर पकाना है इस स्टेज में क्या होगा जो हल्की-फुल्की कसर रह गई है हलवे में वह भी पूरी हो जाएगी

5.इस स्टेज पर हमने जो ड्राई फ़ूड या नेट्स फ्राई करके रखे थे उन्हें यहां पर Moong dal halwa के ऊपर से डाल लेना  है आप देख सकते हमरा जो मुंग दाल का हलवा जो है वो रेडी हो गया है

ये  थोड़ा सा टाइम वाला मेथड लेकिन जितना टाइम लगता है उतना टाइम देकर बनाये तो आपका Moong dal halwa बहुत अच्छा बनेगा अब हलवई क्या करते हैं यह स्टेज के बाद इसमें मावा डाल देते हैं ग्रेड करके तो अगर आप भी मावा डालना चाहते हैं तो मावा डाल सकते हैं मुझे पर्सनली इतना नहीं पसंद है ऐसे ही या बहुत रिच होता है यह बहुत होलसम होता है मैं कभी भी मावा नहीं डालता हूं अगर आप डालना चाहते हैं100 200 ग्राम के बीच में जो फीका मावा वह ग्रेट करके इसमें ऐड कर दीजिए बस मिक्स कर दीजिए पकाने की जरूरत नहीं है वह भी कर सकते हैं मैं तो नहीं ऐड करता कभी भी दूसरी बात एक बार आपका हलवा बन गया इम्मीडिएटली आपको नहीं खाना है इसे 10 मिनट के लिए आप क्या देखेंगे की और घी छोड़ देगा यह Moong dal halwa और काफी थोड़ा सा डेन्स लगेगा लेकिन आपको क्या करना है बस करछी से इसको अच्छे से मिक्स कर लेना है और आप देखेंगे और आपका हलवा अक्षे से फूल जाएगा और Moong dal halwa का टेक्सचर एकदम परफेक्ट हो जाएगा फिर जब भी आप चाहें थोड़ा गर्म कीजिए और सर्व कीजिए

Moong dal halwa से शरीर में होने वाले फायदे

 

1. प्रोटीन

इस मिठाई का मुख्य घटक, पौधे-आधारित प्रोटीन का एक उत्कृष्ट स्रोत है। प्रोटीन मांसपेशियों की वृद्धि, मरम्मत और शरीर के समग्र कामकाज के लिए आवश्यक है। Moong dal halwa आपके प्रोटीन सेवन को बढ़ाने का एक मीठा तरीका प्रदान करता है।

2. ऊर्जा वर्धक

Moong dal halwa में उच्च कार्बोहाइड्रेट सामग्री त्वरित ऊर्जा प्रदान करती है। यह त्योहारों और उत्सवों के दौरान इसे एक लोकप्रिय विकल्प बनाता है, जिससे उत्सवों में उत्साह के साथ भाग लेने की सहनशक्ति मिलती है।

3. पोषक तत्व

मूंग आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर होती है, जिसमें विटामिन (विशेषकर बी विटामिन जैसे फोलेट, थायमिन और नियासिन), खनिज (आयरन, पोटेशियम, मैग्नीशियम) और आहार फाइबर शामिल हैं। ये पोषक तत्व अच्छे स्वास्थ्य और समग्र कल्याण को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

4. केसर और इलायची से मिलते हैं एंटीऑक्सीडेंट

Moong dal halwa को स्वादिष्ट बनाने के लिए अक्सर केसर और इलायची का इस्तेमाल किया जाता है, जो एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। ये यौगिक आपकी कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाली क्षति से बचाने में मदद कर सकते हैं, जिससे संभावित रूप से पुरानी बीमारियों का खतरा कम हो करता है।

5. घी के पाचन संबंधी फायदे

घी, इस मिठाई का एक प्रमुख घटक है, जो अपने पाचन गुणों के लिए जाना जाता है। जब कम मात्रा में सेवन किया जाता है, तो यह पाचन तंत्र को शांत करने और आंत के स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद करता है।

Moong dal halwa सिर्फ आपके स्वाद की इच्छा को संतुस्ट करता ही है साथ ही साथ ही आपकी सेहत के लिए भी काफी बेहतरीन है अगर आप नहीं जानते हो तो हम आपको बता देते हैं की हवा आयुर्वेद के अनुसार बहुत सी सेहत समस्याओं के लिए विशेष रूप से मददगार होता है लेकिन इसे खाने का तरीका और समय बेहद महत्वपूर्ण है फिर moong dal halwa चाहे आटे का हो सूजी का हो या फिर हो बेसन का चलिए अब हम आपको बताते हैं उन बीमारियों के बारे में जिनमे आप हलवे का सेवन करें तो आपको अपनी बीमारी से जल्द से जल्द लाभ मिलेगा इसमें

दीमक को ठंडा रखने में 

सबसे पहले हम जिक्र करेंगे माइग्रेन का जी हां आपको सुनकर यह बहुत अजीब लगेगा पर आयुर्वेद की माने तो सर में लगातार दर्द या माइग्रेन की समस्या में moong dal halwa खाने से लाभ होता है इसके लिए इसका सेवन तभी करें जब moong dal halwa ताजा ताजा बना हो इसके अलावा बहुत ज्यादा तनाव होने पर या तनाव बने रहने की स्थिति

पाचन के लिए 

प्रीतिदिन नियमानुसार  moong dal halwaका सेवन बेहद लाभप्रद होता है और क्या आप जानते हैं की पाचन से संबंधित   पाचन के लिए काफी फायदेमंद होता है खासतौर से moong dal halwa का हलवा अगर आप moong dal halwa को खाते हैं तो आपकी कब्ज की समस्या हल हो जाती है देसी घी से बनाए गए गरमा गरम हलवे का सेवन शरीर को संतुलित करता है और स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है उम्मीद करते हैं की moong dal halwa अब आप और भी ज्यादा शौक से खाएंगे क्योंकि moong dal halwa  सिर्फ आपकी जुबान को आपकी आत्मा को तृप्त करता है बल्कि यह आपकी सेहत के लिए भी कई तरह से फायदेमंद होता है तो अभी हमने आपको बताएं हलवे से जुड़े फायदे बहुत जल्द मिलेंगे कुछ और नई चीजों के फायदे के साथ धन्यवाद् ।

गाजर का हलवा रेसिपी ….

 

Related Posts

2 thoughts on “Moong dal halwa रेसिपी हर स्टेप इमेज के साथ टेस्ट हलवाई जैसा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *